iOS और एंड्रॉयड स्मार्टफोन को भूल जायेंगे, भारतीय सरकार ला सकती है अपना खुद का OS

Share
indian-government-to-bring-indian-os-to-rival-android-and-ios

जैसे कि आप जानते हैं इस समय स्मार्टफोन मार्केट में केवल Android और iOS का ही बोलबाला है। आसपास जितने भी स्मार्टफोन यूजर को आप जानते होंगे अधिकतर यूजर्स या तो एंड्रॉयड इस्तेमाल कर रहे होंगे या फिर iOS। हाल ही में आई खबरों की माने तो भारतीय सरकार अपना खुद का ऑपरेटिंग सिस्टम लाने की तैयारी में है। (Indian OS)

हाल ही में यूनियन मिनिस्टर ऑफ स्टेट फॉर इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी, राजीव चंद्रशेखर ने द इकोनॉमिक टाइम्स को दिए गए एक इंटरव्यू में कहा कि भारतीय सरकार कुछ ऐसी नीति पर कार्य कर रही है जिसकी मदद से भारत में देसी ऑपरेटिंग सिस्टम को बनाने का काम किया जा सकता है। इसके लिए कुछ स्टार्टअप और एकेडमिक इंस्टीट्यूशन से बात चल रही है जिनकी मदद सेे भारतीय ऑपरेटिंग सिस्टम को बनाया जा सके।

बताते चलें इससे पहले भी एंड्रॉयड और आईओएस को टक्कर देने के लिए कई लोकप्रिय ऑपरेटर सिस्टम मार्केट में आए लेकिन ज्यादा कुछ कमाल करके नहीं दिखा सके। उदाहरण के तौर पर ब्लैकबेरी, विंडो, टाइजन कुछ ऐसे ही ऑपरेटिंग सिस्टम में से है। हालांकि फीचर फोन के लिए अभी भी कुछ ऑपरेटिंग सिस्टम मार्केट में मौजूद है जैसे Kai OS। (Indian OS)

भारत जैसी प्राइस सेंसिटिव मार्केट में यदि भारत सरकार अपना खुद का ऑपरेटिंग सिस्टम लेकर आना चाहती है तो इस बात का ध्यान रखना होगा कि इस ऑपरेटिंग सिस्टम में लो एंड स्मार्टफोन में एप्लीकेशन अच्छे से रन कर सके। जैसे कि आप जानते ही होंगे भारतीय मार्केट में अधिकतर स्मार्टफोन बजट सेगमेंट में खरीदे जाते हैे। ऐसे में नए ऑपरेटिंग सिस्टम में सभी ऐप स्मूथली रन करेगी तो ही जनता का विश्वास इस ऑपरेटिंग सिस्टम पर बन पाएगा।

ये भी पढ़िए : 17 मिनट में फुल चार्ज होने वाला Xiaomi 11T Pro 5G स्मार्टफोन 108 MP कैमरे के साथ हुआ लॉन्च

बताते चलें भारतीय ऑपरेटिंग सिस्टम के अलावा Huawei कंपनी भी पिछले काफी समय से अपने खुद के ऑपरेटिंग सिस्टम Harmony OS को लेकर काफी सुर्खियों में है। एंड्रॉयड और आईओएस के अलावा इन सभी ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए सबसे बड़ी चुनौती ये होगी कि क्या यूजर को गूगल ऐप के सहित सभी अन्य लोकप्रिय एप के सपोर्ट मिल पाएगा ?

हम आपसे जानना चाहेंगे आप इस विषय में क्या कहना चाहते हैं? हमें अपने विचार नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताइए। क्या आपको लगता है भारतीय सरकार को एंड्रॉयड और आईओएस के अलावा अपना खुद का ऑपरेटिंग सिस्टम लेकर आना चाहिए ?